प्रेम रावत अब के मूल्य पर

अक्टूबर 11, 2023

प्रेम रावत लोगों को समझाना चाहते हैं उसका सार बहुत सरल है। यह समझ और अनुभव कि शांति हम में से प्रत्येक के भीतर रहती है। उनका दृष्टिकोण आंतरिक, व्यावहारिक और आसानी से लागू होने वाला है। वह बताते हैं कि आत्मज्ञान तब शुरू होता है जब कोई व्यक्ति अपनी भलाई के लिए पूरी ज़िम्मेदारी लेता है और स्वयं का पता लगाने का विकल्प चुनता है।

इस दिशा में, जून 2023 में उन्होंने दुनिया भर में अंडरस्टैंडिंग मोरः फोकस सत्रों की एक श्रृंखला आयोजित करना शुरू किया। पहले यूरोपमें और फिर उत्तरी अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया में। उन लोगों के लिए जो उनके द्वारा सिखाई गई आत्म-ज्ञान की तकनीकों का अभ्यास करते हैं।

इस प्रकार उनके पहले अंडरस्टैडिंग मोर सत्र (24 जून, 2023 को मिलान, इटली में) का पाँच मिनट का वीडियो अंश है, जो एक ऐसे विषय पर है जो उनके शिक्षण का केंद्र है। अब के मूल्य की सराहना करने का महत्व। प्रेम रावत की बातें लोगों को आंतरिक आनंद, कृतज्ञता और चेतना जैसे अनुभवों तक पहुँचने में मदद करती है। 

वीडियो अंश के बाद यूरोप और उत्तरी अमेरिका में बाद के अंडरस्टैंडिंग मोर फोकस सत्रों से इसी विषय पर चयनित उद्धरण दिए गए हैं।

“अब के मूल्य” पर अन्य उद्धरण

“अब, इस क्षण में, आप हैं। और आप राज करिए! आने वाला क्षण, हो सकता है आप न कर पाएँ। वह क्षण जो बीत गया, शायद आप राजा नहीं थे। लेकिन अभी इस क्षण में, आप राजा हैं। आप रानी हैं, आप शासन करिए!”

अब आपका साथी है! कल आपका साथी नहीं है। कल आपका साथी नहीं है। अब आपका साथी है। अब, जब से आप पैदा हुए हो तब से आपके साथ है।”

“कोई भी आपसे वह पल नहीं चुरा सकता। वे आपका ध्यान चुरा सकते हैं। वे आपकीपसंद का पल चुरा सकते हैं। लेकिन अब आपका है। अंत तक, अब आपका है… अब आप स्वतंत्र हैं। आप किसी भी दायित्व से बंधे नहीं हैं। समय का कोई निर्धारण नहीं। कोई वादा नहीं किया या तोड़ा गया। बस आप जीवित हैं।”

“ज्यादातर लोगों ने कल का मूल्य सीख लिया है। उन्होंने कल का मूल्य जान लिया है। उन्हें अब की कीमत के बारे में कभी नहीं बताया गया। आपको ज्ञान दिया गया है। उसका अभ्यास करें।”

अब वह जगह है जहाँ आप मौजूद हैं! एक मिनट आगे या एक मिनट पीछे नहीं, लेकिन अब। अब आपके लिए इसका क्या मतलब है ?”

संबंधित लेख और लिंक

घटनाएँ | इंटेलीजेंट एक्जिस्टेंस

तात्कालिक लेख

चुनने का अधिकार

चुनने का अधिकार

प्रेम रावत जी जो लोगों को देते हैं, उसका मूल बहुत ही सरल है : हम सभी के अंदर...

श्रेणी के अनुसार लेख